घरओवरवियूसंगठनात्मक व्यवस्थाइन्फ्रास्ट्रक्चरभविष्य की रणनीतिगैलरीप्रशासनG2G Loginमुख्य पृष्ठभर्तियां     View in English    
  बागवानी के ऑनलाइन पोर्टल में आपका स्वागत है     हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना-पर्यावरण एवं सामाजिक प्रबंधन रुपरेखा     बागवानी प्रसार अधिकारी के पद के लिए भर्ती 2019-20    
मुख्य मेन्यू
एक नज़र में बागवानी
नागरिक सेवाएं
सामान्य सूचना
वार्षिक प्रशासनिक प्रतिवेदन
योजनागत बजट
फ्लोरीकल्चर
छिडकाव सारिणी
बागवानी सम्बंधित मासिक कार्यसारिणी
फल परिरक्षण सम्बंधित कार्यसारिणी
कीटों की रोकथाम के लिए मासिक कार्य सारिणी
पुष्प उत्पादन सम्बन्धित मासिक कार्य सारिणी
विभागीय फलोद्यान /फल पौधशालाओं हेतु मानक संचालन प्रक्रिया
प्रशिक्षण पुस्तिका
परिचालन संदर्शिका
सूचना का अधिकार नियम 2005
निविदा
सम्बंधित वेबसाइटे
हमसे सम्पर्क करें
मौसम और ऐड ऑन आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम 2018-19
फफूंदनाशकों/कीटनाशकों की परीक्षण रिपोर्ट
नागरिक प्राधिकरण
लोकसेवा गारंटी सेवाएँ सम्बन्धी-अधिसूचना
हिमाचल प्रदेश में फलों के पेड़ का मूल्याकन मापदंड
शिकायत निवारण तंत्र के तहत प्रावधानों को लागू करने के लिए परियोजान की सुरक्षा व्यवस्था
नीलामी सुचना
वर्षाकालीन फल पौधों की दर
शरदकालीन फल पौधों की दर
आर. एफ. डी.
हमारे बारे में

भू उपयोग पद्धति कृषि जलवायु क्षेत्र कार्य संगठनात्मक ढांचा पता


कृषि विभाग वर्ष 1948 में स्थापित किया गया था। 1950 में वन विभाग मे विलय कर दिया गया है। विभाग ने वर्ष 1952 में स्वतंत्र रूप से कार्य करना आरंभ किया। 1970 में, बागवानी विभाग को कृषि विभाग से अलग कर दिया गया और अलग से बागवानी विभाग की स्थापना की गई । कृषि अनुसंधान भी कृषि विभाग से बहार कर दिया गया और कृषि अनुसंधान के लिए असाइन परिसर अब कृषि विश्वविद्यालय, पालमपुर रखा गया .

अत:, कृषि विभाग अब कृषि उत्पादन और भूमि जल संरक्षण पर केन्द्रित है । हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि प्रधानत:राज्य है जहाँ कृषि लगभग 71 प्रतिशत जनसंख्या को रोजगार प्रदान करता है।कृषि क्षेत्र में लगभग 30 प्रतिशत का अंशदान राज्य घरेलू उत्पाद है। कृषि विभाग कृषि समुदाय की सेवा को और विभिन्न विकासात्मक कार्यक्रमों के प्रसार उत्पादकता बढाने के लिए उपयुक्त प्रौद्योगिकी क्षेत्र, फसलों के उत्पादन और लाभ के लिए समर्पित है| मिट्टी जैसे प्राकृतिक संपदा विकासनीति जा रहे हैं, भूमि, जल आदि में इस प्रकार के चिरपोषित लक्ष्य पारिबस्थतिकीय स्थायित्व हासिल है, कृषक समुदाय के आर्थिक उत्थान है। लगभग 18-20 प्रतिशत क्षेत्र वर्षा-पोषित सिंचित भूमि है और शेष है।

मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|दिशा निर्देश और प्रकाशन|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|घोषणाएँ|नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग|हमारे बारे में
Visitor No.: 03664527   Last Updated: 13 Jan 2016