घरओवरवियूसंगठनात्मक व्यवस्थाइन्फ्रास्ट्रक्चरभविष्य की रणनीतिगैलरीप्रशासनG2G Loginमुख्य पृष्ठ     View in English    
  बागवानी के ऑनलाइन पोर्टल में आपका स्वागत है     हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना-पर्यावरण एवं सामाजिक प्रबंधन रुपरेखा     
मुख्य मेन्यू
एक नज़र में बागवानी
नागरिक सेवाएं
सामान्य सूचना
वार्षिक प्रशासनिक प्रतिवेदन
आर. एफ. डी.
फ्लोरीकल्चर
छिडकाव सारिणी
बागवानी सम्बंधित मासिक कार्यसारिणी
फल परिरक्षण सम्बंधित कार्यसारिणी
कीटों की रोकथाम के लिए मासिक कार्य सारिणी
पुष्प उत्पादन सम्बन्धित मासिक कार्य सारिणी
विभागीय फलोद्यान /फल पौधशालाओं हेतु मानक संचालन प्रक्रिया
प्रशिक्षण पुस्तिका
परिचालन संदर्शिका
सूचना का अधिकार नियम 2005
निविदा
सम्बंधित वेबसाइटे
हमसे सम्पर्क करें
मौसम और ऐड ऑन आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी मौसम 2017-18
फफूंदनाशकों/कीटनाशकों की परीक्षण रिपोर्ट
नागरिक प्राधिकरण
लोकसेवा गारंटी सेवाएँ सम्बन्धी-अधिसूचना
हिमाचल प्रदेश में फलों के पेड़ का मूल्याकन मापदंड
शिकायत निवारण तंत्र के तहत प्रावधानों को लागू करने के लिए परियोजान की सुरक्षा व्यवस्था
नीलामी सुचना
फल पौध पोषण सेवाएँ

हिमाचल प्रदेश में फल उत्पादकों को फल पौध पोषण से सम्बंधित सलाहकार सेवाएँ


प्रदेश में उद्यान विभाग इस योजना "हिमाचल प्रदेश के फल उत्पादकों के लिए फल पौध पोषण सलाहकार सेवाएँ ", को 1974 के बाद से लागू कर रहा है। यह योजना उतक व् पत्ती विश्लेषण तकनीक पर आधारित है, जिसके अंतर्गत किसानों के बगीचों में पत्ती व् फल पौध पोषण के नमूनों को व्यवस्थित कार्यप्रणाली के अनुसार सही समय पर एकत्रित किया जाता हैं| बाद में नमूनो के विधायन एवं रासायनिक विश्लेषण के द्वारा उद्यानों में विभिन्न सूक्ष्म व् सूक्ष्म पोषक तत्वों की स्थिति का पता लगाया जाता है| परीक्षणों की उपयुक्त मानदंडों के साथ तुलना की जाती है, बागवानो को पती व् फल पौध पोषण तकनीक के आधार पर पोषक तत्वों व् रासायनिक तैयार संतुलित खाद का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है। जिससे कि उत्पादन की लागत कम हो जाएगी और वे उद्यानों से लम्बे समय तक अच्छे फलों का अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते है|


इस योजना के अन्तर्गत महत्वपूर्ण क्षेत्र निम्नलिखित है


  1. पत्ती विश्लेषण तकनीक के माध्यम से महत्वपूर्ण व्यवसायिक फल फसलों में पोषक तत्वों की परिस्थिति का आंकलन करना।
  2. फल फसलों के लिए स्थायी उर्वरक कार्यक्रम तैयार् करना |
  3. राज्य में फल उत्पादकों को फल पौध पोषण से सम्बंधित सलाहकार सेवाएँ प्रदान करना|
  4. राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में पत्ती विश्लेषण के लिए नवीनतम एवं उन्नत उपकरणों के साथ नई फल पौध पोषण प्रयोगशालाओं को स्थापित करना|

विद्यमान आधारभूत संरचना


राज्य में इस समय तीन फल पौध पोषण प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं। इन प्रयोगशालाओं की स्थापना निम्न स्थानों में की गई है।

  1. फल पौध पोषण प्रयोगशाला नवबहार शिमला।
  2. फल पौध पोषण प्रयोगशाला धर्मशाला, जिला कांगड़ा|
  3. फल पौध पोषण प्रयोगशाला बजौरा, जिला कुल्लू|

इसके अतिरिक्त प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में बागवानो को पत्ती विश्लेषण की सुविधा उपलब्ध करवाने हेतु जिला किन्नौर के रिकांगपियो और जिला चंबा के भरमौर में ड्राइंग एवं ग्राइंडिंग इकाइयाँ भी कार्यरत है.


विश्लेषण की सुविधाएं


  1. अ. फल पौध पोषण प्रयोगशाला में पत्ती के नमूनों का विश्लेषण करने के लिए जैसे नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, मैंगनीज, तांबा और जस्ता हमेशा उपलब्ध रहतें हैं|
  2. ब.ड्राइंग कम ग्रैन्डिंग इकाइयों द्वारा पत्ती नमूनो का विश्लेषण एकत्रीकरण एवं विधायन की सुविधाएं | फल पौध पोषण प्रयोगशालाओं में इन नमूनों का विश्लेषण किया जाता है|
मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|दिशा निर्देश और प्रकाशन|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|घोषणाएँ|नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग
Visitor No.: 02132837   Last Updated: 13 Jan 2016