घरपरिचयनौकरी प्रोफाइलबजटक्रियाएँउपलब्धियांगैलरीसाइटमैपG2G Loginमुख्य पृष्ठ     View in English    
  मोबाइल पशु चिकित्सा एम्बुलेंस के माध्यम से घरद्वार पर आपातकालीन निःशुल्क पशु चिकित्सा सेवाओं का लाभ उठाने के लिए, 1962 (टोल फ्री) पर संपर्क करें।    
मुख्य मेन्यू
संगठनात्मक व्यवस्था
सामान्य सूचना
संस्थान का विवरण
विभागीय फार्म
सूचना का अधिकार (आरटीआई)
स्टाफ स्थिति
टेलीफ़ोन डाइरेक्टरी
शिकायत प्रकोष्ठ
भर्ती एवं पदोन्नति नियम
निविदा सूचना
हि० प्र० स्टेट वेटनरी कौंसिल
हि० प्र० पैरा- वेटनरी कौंसिल
राज्य पशु कल्याण बोर्ड
अन्य मुख्य लिंक्स
विभागीय लोगो
हि० प्र० गौसेवा आयोग
सब्सिडी योजनाओं के लिए आवेदन करें
लम्पी चमड़ी रोग
हमसे सम्पर्क करें
नागरिक चार्टर

नागरिक अधिकार पत्र


पशुधन सेवा-हमारा संकल्पहमारा ध्येय


हिमाचल प्रदेश पशु पालन विभाग प्रदेश के पशु पालकों के सर्वागीण विकास हेतु पूर्णरूप से समर्पित है। पशु पलकों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए विभाग, पशुधन स्वास्थ्य, रोग-अन्वेषण, रोग उपचार, चारा विकास, वैज्ञानिक ढंग से पशुधन प्रवन्धन एवं लुप्त हो रही देसी नस्ल की प्रजातियों के संरक्षण आदि कार्यक्रमों का संचालन कर रहा है। पशुधन संवधर्न के माध्यम से प्रत्येक पशुपालक को स्वाबलम्बी बनाने और वर्ष भर निरन्तर आय व पौष्टिक आहार की प्राप्ति हेतु प्रयासरत है।

वर्ष 1948 में, जब हिमाचल प्रदेश बना, प्रदेश में केवल 9 पशु चिकित्सा संसथान थे। आज विभाग कुल 2204 पशु संस्थानों के माध्यम से पशुधन के विकास हेतु सेवायें प्रदान कर रहा है।

पशुपालन विभाग का स्वरुप व गतिविधियां


क्रम संख्या संस्थान का नाम संख्या संक्षिप्त कार्य का विवरण
क:     पशु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं
1 राज्य पशु चिकित्सालय 1 यह संस्थान राजधानी शिमला में स्थित है। इसमें उच्च स्तरीय नैदानिक व विशेषज्ञ सुविधायें उपलब्ध है। मुख्यतः छोटे पशुओं के ईलाज के अतिरिक्त उच्च स्तर कीरोग अन्वेषण सेवायें प्रदान की जाती है।
2 पालीक्लीनिक 7 इन संस्थानों में पशु शल्य चिकित्सा, मेडीसीन, पैथोलोजिस्ट व गायनीकोलाजिस्ट की विशेषज्ञ सुविधाएं प्रदान की जाती है।
3 उप मंडलिय पशु चिकित्सालय 45 रोग उपचार, रोग निरोधन, कृत्रिम गर्भधान, चारा विकास व विभाग द्वारा संचलित पशुधन विकास के कार्यक्रमों को कार्यान्वित करना।
4 केन्द्रीय पशु औषधालय 30 रोग उपचार, रोग निरोधन, कृत्रिम गर्भधान, चारा विकास व विभाग द्वारा संचलित पशुधन विकास के कार्यक्रमों को कार्यान्वित करना
5   1761 प्राथमिक पशु उपचार, कृत्रिम गर्भधान, रोग निरोधन, बधियाकरण व पशु चिकित्सा अधिकारी की देख रेख में अन्य विभागीय कार्यक्रमों को कार्यन्वित करना।
पशु चिकित्सा संस्थानों की कार्य समयावधि
प्रत्येक कार्य दिवसः राजपत्रित अवकाशों को छोडकर 9:30 पूर्वाहन से 1:30 अपराहन तक तथा 2:00 से  4:00 अपराहन तक । आपातकालीन सेवायें हर समय उपलब्ध होती है।
 
खः     पशु प्रजनन कार्यक्रम
क्रम संख्या संस्थान का नाम संख्या संक्षिप्त कार्य का विवरण
1 स्पर्म स्टेशन पालमपुर व अडुवाल (सोलन) (आई॰एस॰ओ॰ प्रमाणित) 2 उच्च गुणवत्ता के सांडो के सांडों के
वीर्य तृणों का गुणवत्ता नियन्त्र्युक्त उत्पादन तथा तृणों एवं तरल नत्रजन की नियमित आपूर्ति विभिन्न पशु संस्थानों में सुनिश्चित करना।
2 वीर्य कोष 
चम्बा, सोलन (अडुवाल) ज्योरी, घणाहटी, पालमपुर, मण्डी तथा (ताल) हमीरपुर
7 ये संस्थान तरल नत्रजन व वीर्य तृणों की आपूर्ति विभिन्न पशु सस्न्थानों में सुनिश्चित करते हैं।
3 गोजातीय पशु प्रजनन प्रक्षेत्र कोठीपुरा, पालमपुर व बागथन 3 प्रजनन कार्य हेतु वीर्य विधायन प्रयोगशालाओं को उत्तम सांडों की आपूर्ति करना, जर्सी व होलस्टीन गायों की प्रदेश की जलवायु के अनुरूप उत्पादन क्षमता का अध्ययन करना तथा पशुपालकों को उन्नत डेयरी पालन का प्रशिक्षण व प्रदर्शन प्रदान करना।
 
गः     रोग अन्वेषण सेवाएं
1 रोगव्यापिकीविद प्रयोगशाला शिमला व मण्डी 1 विभिन्न रोगों का सर्वेक्षण करना, मुंह खुर रोगों के नमूनों की जांच करना।
2 रोग अन्वेषण प्रयोगशाला शिमला व मण्डी 2 ये प्रयोगशालायें प्रदेश में पशु रोगों के निदान का कार्य आधुनिकतम तकनीकों द्वारा प्रदान कर रही है।

मुख्य पृष्ठ|उपकरणों का विवरण|प्रकाशन एवम दिशा निर्देश|डाउनलोड और प्रपत्र|कार्यक्रम और योजनाएं|सफल कहानियाँ |नीतियाँ|प्रशिक्षण और सेवाएँ|रोग
Visitor No.: 10828597   Last Updated: 06 May 2023